cane up.in | अब किराया पर मिला करेंगी फसल अवशेष प्रबंधन मशीनें किसान भाइयों को सीएम योगी का तोहफा|

 

cane up.in | यूपी के किसान भाइयों के लिए खुशखबरी है अब किसान भाइयों को फसलों के अवशेष हो प्रबंधन के लिए बाकी मशीन खरीदने की कोई आवश्यकता नहीं है
यूपी सरकार नेट के लिए कुछ खास कदम उठाए हैं

cane up.in cane up.in | cane up in | caneupin | caneup.in | enquiry.caneup.in | up cane gov in | caneup | www caneup.in | caneup.xyz | cane up.in | caneup.org.in
cane up.in | cane up in | caneupin | caneup.in | enquiry.caneup.in | up cane gov in | caneup | www caneup.in | caneup.xyz | cane up.in | caneup.org.in

यूपी की 126 सहकारी गन्ना एवं चीनी मिल के बैंक मिशनरी में 378 अवशेष मशीनें दिए जा रहे हैं जो चीनी के मिलो समितियों से पर किसान भाइयों को उपलब्ध कराए जाएंगे| 

              Ganna Parchi UP Calendar dekhe

फार्म मशीनरी बैंक की शुरुआत एडवांस खेती को बढ़ावा देने के लिए की जा रही है| cane up.in

यूपी के मुख्य सचिव गन्ना विकास, संजय भूसरेड्डी जीने कहा कि के खेत में होने वाली पैसों की लागत को कम करनी है और एडवांस खेती को बढ़ावा देने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने सहकारी गन्ना और चीनी मिलो वीडियो में मशीनरी बैंक की शुरुआत की है. इस योजना के तहत गन्ने की खेती में इस्तेमाल होने वाले फसल अवशेष प्रबंधन से संबंधित 12 तरह की 35 मशीनों को लाया गया है ऐसे किसान भाई जो इन मशीनों को खरीदने की योग्य नहीं है उन्हें किराए पर गन्ना समितियों के तहत यह सभी मशीनें उपलब्ध करवाई जाएंगी इस योजना से किसानों की आर्थिक स्थिति में बदलाव आएगा तथा किसानों की समय की भी बचत होगी

समस्या फसलों के अवशेष प्रबंधन की है

खास तौर पर फसल के उत्पादन के बाद किसान भाइयों की सबसे बड़ी प्रॉब्लम फसलों के अवशेष प्रबंधन में होती है गन्ने की कटाई के बाद खेत में लगभग 10 से 15 टन प्रति हेक्टेयर गन्ना की सुखी पत्तियां जमीन के ऊपर एक मोटी चादर की तरह जमा हो जाती है जिससे आगे चलकर छिड़काव और दूसरे कामों में काफी परेशानी होती है

प्रदेश सचिव गन्ना विकास संजय भूसरेड्डी जी ने बताया कि फसल अवशेष प्रबंधन के जरिए से गन्ने की पत्तियों को खेत में ही काटकर मिलाने से जहां एक ओर प्रदेश किसान भाइयों को जमीन ओव्रता शक्ति बढ़ाने में सहायता मिलेगी, दूसरी तरफ उन्हें महंगी मशीनें खरीदने की कोई जरूरत नहीं है इस तरीके से प्रदेश किसान भाइयों को लाभ होगा।

 

गन्ना पर्ची देखने के लिए और गन्ने से जुड़ी सभी संबंधित प्राप्त करने के लिए Caneup.org.in से जुड़े

Leave a Comment